गुरु नानक देव जी की जीवनी

नाम – नानक (Nanak)प्रसिद्ध नाम – श्री गुरु नानक देव जी (Shri Guru Nanak Dev Ji)जन्म -Guru nanak birth place 15अप्रैल,1469 में गाँव तलवंडी, शेइखुपुरा डिस्ट्रिक्ट(जो आज के दिन ननकाना साहिब, पंजाब ,पाकिस्तान में है) गुरुनानक दिवस (Celebrated as Guru Nanak Jayanti )मृत्यु – 22सितम्बर, 1539 करतारपुर, मुग़ल साम्राज्य, पाकिस्तानमहान कार्य – विश्व भर में सांप्रदायिक एकता, शांति, सदभाव के ज्ञान को बढ़ावा दिया और सिख समुदाय की…

जब महात्मा गांधी ने त्यागे वस्त्र और बन गए ‘फकीर’, पढ़ें यह दिलचस्प वाकया…

महात्मा गांधी ने आजादी के लिए अंग्रेजों के खिलाफ अपनी लड़ाई में तमिलनाडु में कुछ महत्वपूर्ण फैसले लिए थे महात्मा गांधी ने आजादी के लिए अंग्रेजों के खिलाफ अपनी लड़ाई में तमिलनाडु में कुछ महत्वपूर्ण फैसले लिए थे, जिसमें 98 साल पहले ‘अर्धनग्न फकीर’ बनना भी शामिल है। अराजकतावादी और क्रांतिकारी अपराध अधिनियम, जिसे रौलेट एक्ट भी कहते हैं, के…

भारत को जय जवान, जय किसान का नारा देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर जानें उनके जीवन से जुड़े अनसुने किस्से

जन्म: 2 अक्टूबर, 1904 निधन: 10 जनवरी, 1966 उपलब्धियां: भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में मुख्य भूमिका, उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री गोविन्द वल्लभ पंत के संसदीय सचिव, पंत मंत्रिमंडल में पुलिस और परिवहन मंत्री, केंद्रीय मंत्रिमंडल में रेलवे और परिवहन मंत्री, केन्द्रीय मंत्रिमंडल में परिवहन और संचार, वाणिज्य और उद्योग,1964 में भारत के प्रधान मंत्री बने लाल बहादुर शास्त्री स्वतंत्र भारत के…

हंसते-हंसते देश पर जान न्यौछावर करने वाले शहीद-ए-आजम भगत सिंह का आज है जन्मदिन

देशप्रेमियों में सबसे पहला नाम भगत सिंह का लिया जाता है। ऐसे विरले ही लोग हुए जिन्होंने अपने देश के लिए अपनी मां की ममता को भी कम तवज्जो दी। इस तरह के देशप्रेमियों में सबसे पहला नाम भगत सिंह का लिया जाता है। हंसते-हंसते देश पर अपनी जान न्यौछावर कर देने वाले ऐसे शहीद-ए-आजम भगत सिंह की आज (28…

पढ़िए- 100 साल पहले अंग्रेजों ने ऐसे रची थी जलियांवाला बाग हत्याकांड की साजिश

13 अप्रैल 1919। दुनिया के इतिहास में शायद ही इससे ज्यादा काली तारीख दर्ज हो जब एक बाग में शांतिपूर्ण तरीके से सभा कर रहे निहत्थे-निर्दोष लोगों पर अंधाधुंध गोलियां बरसा दी गई थीं। वह जगह थी अमृतसर का जलियांवाला बाग और इस अत्याचार का सबसे बड़ा गुनहगार था जनरल डायर। उस नरसंहार को आज सौ साल हो गए। हर…

You cannot copy content of this page
× समाचार भेजें