भारत मां के इस सपूत ने 21 साल बाद लिया था जलियांवाला बाग का बदला

आज जलियांवाला बाग नरसंहार की 100वीं बरसी है। आज जलियांवाला बाग नरसंहार की 100वीं बरसी है। देश की आजादी के इतिहास में 13 अप्रैल का दिन एक दुखद घटना के साथ याद किया जाता है। 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग में एक शांतिपूर्ण सभा के लिए जमा हुए हजारों भारतीयों पर अंग्रेज हुक्मरान ने अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं। ये…

अमर शहीद भगत सिंह के जीवन की अनजानी बातें

देश की सरकार भगत सिंह को शहीद नहीं मानती है, जबकि आजादी के लिए अपनी जान न्योछावर करने वाले भगत सिंह हर हिन्दुस्तानी के दिल में बसते हैं।भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर 1907 को लायलपुर जिले के बंगा में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। उस समय उनके चाचा अजीत सिंह और श्‍वान सिंह भारत की आजादी में…

अल्ला रक्खा ख़ाँ

अल्ला रक्खा ख़ाँ (अंग्रेज़ी: Alla Rakha Khan, जन्म- 29 अप्रैल, 1919; मृत्यु- 3 फ़रवरी, 2000) सुविख्यात तबला वादक, भारत के सर्वश्रेष्ठ एकल और संगीत वादकों में से एक थे। इनका पूरा नाम पूरा नाम क़ुरैशी अल्ला रक्खा ख़ाँ है। अल्ला रक्खा ख़ाँ अपने को पंजाब घराने का मानते थे। अल्ला रक्खा ख़ाँ के पुत्र का नाम ज़ाकिर हुसैन है जो स्वयं प्रसिद्ध तबला वादक हैं। आरंभिक जीवन उस्ताद अल्ला रक्खा ख़ाँ का जन्म 29 अप्रैल,…

राष्ट्र एवं धर्मके लिए आत्मबलिदान करनेवाले छत्रपति संभाजी महाराज !

संभाजीराजाने अपनी अल्पायुमें जो अलौकिक कार्य किए, उससे पूरा हिंदुस्थान प्रभावित हुआ । इसलिए प्रत्येक हिंदुको उनके प्रति कृतज्ञ रहना चाहिए । उन्होंने साहस एवं निडरताके साथ औरंगजेबकी आठ लाख सेनाका सामना किया तथा अधिकांश मुगल सरदारोंको युद्धमें पराजित कर उन्हें भागनेके लिए विवश कर दिया । २४ से ३२ वर्षकी आयुतक शंभूराजाने मुगलोंकी पाश्विक शक्तिसे लडाई की एवं एक…

महान योद्धा श्रीमन्त बाजीराव पेशवा

१. बाजीराव पेशवा प्रथम का स्मरण         इतिहास, कई सारी महान सभ्यताओं के उत्थान और पतन का गवाह रहा है। अपने दीर्घकालीन इतिहास में हिंदू सभ्यता ने दूसरों द्वारा अपने को नष्ट करने के लिए किये गये विभिन्न आक्रमणों और प्रयासों को सहा है। यद्यपि इसके चलते इसने वीरों और योद्धाओं की एक लंबी शृंखला उत्पन्न की है, जो दूसरी…

You cannot copy content of this page
× समाचार भेजें