इटावा में बोले सीएम, 45 लाख परिवारों को मिलेगा पीएम आवास


मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में बेसलाइन सर्वे में 45 लाख परिवार ऐसे निकले हैं, जिनके पास आवास नहीं हैं।

मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में बेसलाइन सर्वे में 45 लाख परिवार ऐसे निकले हैं, जिनके पास आवास नहीं हैं। ऐसे लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत फरवरी तक आवास उपलब्ध करा दिए जाएंगे। देश में इटावा बहुत जल्द स्वच्छता मॉडल के रूप में पहचान बना लेगा, अभी पूरे प्रदेश में ओडीएफ में इटावा पहले स्थान पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ये मुहिम अब जनसहभागिता से तेजी के साथ बढ़ रही है। मुख्यमंत्री रविवार को इटावा के नुमाइश पंडाल में आयोजित स्वच्छता सम्मान समारोह में बोल रहे थे। कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने भी पीएम के स्वच्छ भारत मिशन की सराहना की। 
मुख्यमंत्री ने 87 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और 18 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास किया। स्वच्छता प्रहरियों, सफाई कर्मियों, स्वच्छताग्राहियों, प्रधानाचार्यों को सम्मानित किया। एक दर्जन योजनाओं के 9158 लाभार्थियों को स्वीकृत पत्र भी दिए। लाभार्थियों व स्वच्छता प्रहरियों से खचाखच भरे पंडाल के बीच उन्होंने कहा कि खुले में शौच से विषाणुजनित बीमारियां पनपती हैं, इससे निजात दिलाने को प्रधानमंत्री ने 2 अक्तूबर 2014 से स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत की थी। तब प्रदेश की हालत दयनीय थी, लगता था कि इतनी जल्दी काम कैसे होंगे मगर प्रदेशवासियों की सहभागिता ने यह करके दिखा दिया है। हर घर में शौचालय सम्मान ही नहीं बल्कि नारी गरिमा का भी प्रतीक है। इस कार्यक्रम को स्वयं प्रधानमंत्री ने लीड किया और देखते ही देखते इसमें आम लोग, छात्र छात्राएं, सफाई कर्मी, सरकारी मशीनरी, ग्राम पंचायत स्तर तक जनप्रतिनिधि भी जुटे और परिणाम सकारात्मक निकले। 


इटावा ओडीएफ में मॉडल जिला : उमा भारती 
केंद्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती ने कहा कि एक बार वह राम के लिए आईं थीं और अब रामराज्य के लिए आई हैं। कहा कि प्रदेश में इटावा ओडीएफ में मॉडल जिला बना है, बहुत जल्द यहां प्रदेश ही नहीं, देश भर मंत्री पहुंचेंगे, यहां का काम देखेंगे। कहीं कहीं तो अभी ओडीएफ पर ही काम चल रहा है, जबकि यहां डेढ़ साल में ही ओडीएफ प्लस योजना पर काम शुरू हो गया है। इसके लिए यहां की डीएम सेल्वा कुमारी जे व उनकी टीम बधाई की पात्र है। उन्होंने कहा कि गंगा के किनारे के 4 हजार गांव ओडीएफ हो चुके हैं अब यमुना किनारे के गांवों की बारी है। यहां हो रहे कार्यक्रम को स्वच्छता कुंभ कहा। कार्यक्रम में पेयजल एवं स्वच्छता के केंद्रीय सचिव परमेश्वरम अय्यर ने भी स्वच्छता के लिए देशभर में हो रहे कार्यों को गिनाया। कार्यक्रम में परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, सांसद अशोक दोहरे, विधायक सरिता भदौरिया, सावित्री कठेरिया, जिलाध्यक्ष शिव महेश दुबे मौजूद रहे। 


मुख्यमंत्री ने गिनाईं सरकार की उपलब्धियां
सौभाग्य योजना का जिक्र करते हुए कहा मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले डेढ़ साल में प्रदेश में 94 लाख परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन दिए गए, अकेले इटावा में ही 75 हजार कनेक्शन बांटे। किसानों की ऋण माफी, प्रधानमंत्री आवास योजना, उज्ज्वला योजना, स्टैंड अप, स्टार्ट अप, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, आयुष्मान योजना की भी उपलब्धियां गिनाईं। 
सुविधाओं में कटौती नहीं की
मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि इटावा जिले को पिछली सरकार में वीआईपी कहा जाता था और अतिरिक्त सुविधाएं मिल रहीं थीं, उनकी सरकार ने इन सुविधाओं में कोई कटौती नहीं की। वे चाहते हैं कि यही सुविधाएं सूबे के 75 जिलों को मिले। किसी नाम लिए बगैर कहा कि कुछ लोगों ने समाज को सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रखा। भाजपा सरकार सभी को समानता से योजनाओं का लाभ दे रही है। वह जिले की सभी विधानसभाओं में बराबरी से काम हो रहे हैं, कोई भेदभाव नहीं किया जा रहा है।

Sources :- livehindustan.com

Related posts

Leave a Reply

You cannot copy content of this page
× समाचार भेजें