यूरिया के लिए चक्कर लगा रहे किसान

महराजगंज। हल्की बारिश से फसल को संजीवनी तो मिल गई, लेकिन अब किसान यूरिया के लिए भटक रहे हैं।

महराजगंज। हल्की बारिश से फसल को संजीवनी तो मिल गई, लेकिन अब किसान यूरिया के लिए भटक रहे हैं। शहर से लेकर गांव के चौराहे तक की दुकानों पर किसान चक्कर लगाने को विवश हैं। बारिश के बाद गेहूं की फसल को यूरिया की विशेष जरूरत है। समय से खेतों में यूरिया का छिड़काव होगा तभी पैदावार अच्छी होगी। वहीं दूसरी ओर कृषि विभाग का दावा है कि जिले में यूरिया की कमी नहीं है। दो दिन के अंदर जिले में 800 एमटी यूरिया की रैक आ जाएगी। दावों से इतर परेशान किसानों ने समस्याओं को लेकर विभाग समेत सरकार की आलोचना की।

किसानों का कहना है कि समय पर यूरिया नहीं मिला तो उत्पादन अच्छा नहीं होगा। यूरिया के लिए किसान गांवों से लेकर शहर तक चक्कर लगा रहे हैं। बीते दो दिन पहले यूरिया की कमी बताई जा रही है। मौजूदा समय में बारिश के कारण रबी की फसलों में यूरिया के छिड़काव की जरूरत है। इसके चलते यूरिया की मांग बढ़ी है। कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिले में 27000 एमटी यूरिया में 24837 एमटी वितरित हो चुका है। डीएपी 23635 एमटी में से 16487 एमटी वितरित किया जा चुका है। एनपीके 6496 एमटी में से 5063 एमटी वितरित हो चुका है। जल्दी ही जिले के 800 एमटी यूरिया की रैक आने वाली है। मंगलवार को तमाम गांव से किसान इफको किसान सेवा केंद्र पर आये। यहां खाद नहीं मिलने पर वापस लौटते गए।
जिला कृषि अधिकारी रवि मणि त्रिपाठी ने कहा कि जिले में दो दिन के अंदर आठ सौ एमटी यूरिया की रैक आने वाली है। उर्वरक की कमी नहीं है। किसानों को कोई दिक्कत न हो इसका ख्याल रखा जा रहा है। विशुनपुरा गांव के महेंद्र वर्मा ने कहा कि यूरिया लेने के लिए सुबह ही इफको केंद्र पर आया तो पता चला की यूरिया नहीं है। दो तीन बाद बाद मिलेगी। बारिश होने के बाद गेहूं की फसल में यूरिया की जरूरत है। सवरेजी से आए किसान राधेश्याम ने कहा कि यूरिया नहीं मिल रही है। गेहूं की फसल को इन दिनों यूरिया की जरूरत है, लेकिन जरूरत के समय यूरिया का नहीं मिलना समस्या बढ़ा रहा है। रामपुरमीर गांव के राकेश गुप्ता ने कहा कि किसान हित के लिए शासन-प्रशासन गंभीर नहीं है। जब फसल में यूरिया के छिड़काव के जरूरत है तो नहीं मिल रही है। कुछ दिन और यूूरिया नहीं मिली तो समस्या बढ़ जाएगी। गबडुआ गांव के मिनहाजुद्दीन ने कहा कि इफको केंद्र के अलावा सहकारी समिति पर यूरिया के लिए गया, लेकिन नहीं मिला। दो दिन से चक्कर काटने के बाद भी यूरिया नहीं मिला। बताया गया कि दो दिन में मिल जाएगा।

Sources :- Jagran.com

Related posts

Leave a Reply

You cannot copy content of this page
× समाचार भेजें